Thursday, 29 August 2019

Protocol क्या होता है ? Protocols की पूरी जानकारी

दोस्तो आज हम protocols की बात करने वाले है और आपके साथ protocol की बहुत सारी जानकारी share करने वाले है. हमने पिछली बार आपको Networking के बारे में detail से बताया था आप computer networking की पोस्ट नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते है.
आपने अगर अभी तक networking वाली हमारी पोस्ट नही पढ़ी है तो पहले उसे पढ़ लीजिए ताकि आपको protocol भी अच्छे से समझ आ सके. अब हम network में प्रोटोकॉल की बात करते है.
Protocol kya hai in hindi
Protocols डिजिटल कम्युनिकेशन करने और network device के बीच डाटा को ट्रांसमिट करने का एक जरिया होता है इसके साथ protocol यह भी ensure करने का कार्य करते है कि डाटा को किस तरह computing device के बीच ट्रांसमिट किया जाए. इन protocols के बिना internet पर कोई भी काम नही कर सकते है और किसी भी technology का उपयोग करके communicate नही कर पाते. अगर सीधे शब्दों में कहा जाए तो protocol के बिना इंटरनेट का कोई भी अस्तित्व नही होता है और कोई भी कंप्यूटर डिवाइस protocols के बिना काम नही कर सकता है. चलिए सबसे पहले हम protocol की परिभाषा को अच्छे से समझ लेते है.

Protocol क्या है ? जानिए हिंदी में

Protocol से तात्पर्य (Set Of Rules) नियमो के समूह होता है इसे Access Method भी कहा जाता है. दूसरे शब्दों में हम कह सकते है कि "Network Device के बीच डाटा को transfer और communication करने के लिए नियमो का समूह (set of rules) होता है और इन नियमो के समूह को नेटवर्क Protocol कहा जाता है" इसका उद्देश्य नेटवर्क डिवाइस के बीच data को सही और सुरक्षित तरीके से transfer करना होता है. और जब data receive होगा तो उसके बाद क्या करना data में कोई error तो नही है और अगर है तो उसको कैसे manage किया जाए यह सब प्रोटोकॉल पर निर्भर करता है. हम protocols के बिना इंटरनेट की कल्पना भी नही कर सकते है. क्योकि हम आज अगर हम internet चला रहे है तो इसका कारण भी प्रोटोकॉल है. उदाहरण के लिए अगर हम browser में कोई website खोलते है तो उस साइट के आगे http:// या https:// जरूर होता है और यह भी एक तरह का protocol है. जो बताते है कि किसी website या web पेज को किस तरह से transmit करके user के समझने योग्य बनाया जाए.

Protocol के प्रकार

वैसे तो आज के समय मे कई तरह के प्रोटोकॉल उपलब्ध है और कंप्यूटर नेटवर्किंग में बहुत सारे protocols उपयोग किये जाते है. जिसमे हमे TCP, IP, TELNET, HTTP, ETHERNET, FTP, SMTP जैसे बहुत सारे protocols देखने को मिलते है चलिए हम इन्हें एक - एक करके समझते है.

TCP

इसका पूरा नाम Transmission Control Protocol है यह एक तरह का इंटरनेट communication प्रोटोकॉल है. इसका कार्य दो या उससे अधिक डिवाइस के बीच connection स्थापित करना है ताकि उन डिवाइस के बीच डाटा का आदान - प्रदान किया जा सके. TCP डाटा को छोटे -छोटे Packets में convert करके destination address तक पहुँचा देता है जहाँ पर packets में विभाजित डाटा को फिर से जोड़ लिया जाता है. TCP प्रोटोकॉल को  IP protocol के साथ उपयोग किया जाता है और यह TCP/IP के नाम से एक Network मॉडल बनाते है जो कि OSI मॉडल की तरह ही होता है इसमे भी osi model की तरह 4 layer होती है.

IP

IP Protocol का full form - Internet Protocol होता है. यह Transmission Control Protocol के साथ काम करता है. इसका उपयोग एक तरह से address के रूप में किया जाता है. यह सबसे ज्यादा उपयोग होने वाले प्रोटोकॉल में से एक है. IP प्रोटोकॉल की मदद से ही हम internet का उपयोग कर पाते है. जब भी हम data transmit करते है तो वह पैकेट्स के रूप में जाता है तो sender  और receiver का अपना एक ip एड्रेस होता है जिससे कि डेटा अपने destination address पर पहुच सके.

Telnet

जब हम अपने system या कंप्यूटर से कही दूर है और हम दूर रहकर अपने computer को किसी दूसरे कंप्यूटर के द्वारा संचालित करना चाहते है. तो इस तरह के connection को स्थापित करने के लिए Telnet Protocol उपयोग होते है. आप इसके उदाहरण में Team Viewer को देख सकते है जिसकी मदद से आप एक कंप्यूटर को किसी दूसरे कंप्यूटर से कही से भी control कर सकते है.

HTTP

HTTP का मतलब Hyper Text Transfer Protocol होता है आपने देखा होगा कि जब भी हम कोई वेबसाइट खोलते है उसके नाम के पीछे http जरूर होता है जो internet पर web और client को एक दूसरे के बीच डाटा exchange करने देता है. हम किसी भी web पेज को जब browser में खोलते है तो यही protocol हमे उसे समझने योग्य भाषा मे परिवर्तित करता है. हर ब्राउज़र इस प्रोटोकॉल को support करता है.

FTP

FTP - File Transfer Protocol जैसा कि इसके नाम से पता चलता है file को transfer करना. यह protocol computer के बीच मे file को ट्रांसफर करने के लिए उपयोग किया जाता है. हम जितना भी डेटा internet पर एक दूसरे से शेयर करते है यह सब इसी की मदद से संभव होता है. FTP दूसरी sharing mathod के मुकाबले तीव्र भी होती है.

Ethernet

जैसा कि School, collage, building और office में LAN (Local Area Network) connection का उपयोग देखने को मिलता है लेकिन इस कनेक्शन को स्थापित करने के लिए Ethernet का उपयोग होता है क्योंकि किसी कंप्यूटर को lan से कनेक्शन जोड़ने के लिए Ethernet Network Interface card होना जरूरी होता है.

SMTP / POP

SMTP का मतलब simple mail transfer protocol होता है और इसका उपयोग mail को send करने के लिए किया जाता है. और वही पर POP3 जिसका पूरा नाम - 'Post Office Protocol 3' है इसका उपयोग mail receive करने के लिए किया जाता है.

IMAP

IMAP - Internet Message Access Protocol का काम होता है कि mails को mail server पर store करे. जैसे कि जब भी हम mail id को id और password डाल कर खोलते है तो यह हमें id access करने में मदद करता है.

UDP

UDP का मतलब User Datagram Protocol होता है जो कि लगभग TCP की तरह होता है और IP Protocol के साथ काम करता है. पर TCP जितनी capability UDP में नही होती है इसलिए इसका उपयोग छोटी size के data packets को transmit करने में किया जाता है. और इन छोटी साइज के डाटा packets को Datagram कहा जाता है. इस protocol की एक समस्या यह होती है कि अगर कोई data packet transmission के दौरान खो जाता है तो UDP उसे फिर से regenerate नही कर सकता है.

Protocols से संबंधित और भी जानकारियां है जिन्हें हम आगे जानेंगे. आने वाली articles में हम अलग - अलग तरह के protocols के बारे में जानेंगे. तो आज हमने protocols के बारे में बहुत कुछ जान और सिख लिया है. इसी के साथ हम आज का post यही खत्म करते है. अगर आपका protocol से संबंधित कोई भी सवाल है तो आप हमें बताये हम आपकी help करेंगे. अब आप हमारी यह protocol वाली post अपने दोस्तों के साथ शेयर करे और ऐसे ही ज्ञानवर्धक पोस्ट रोज पढ़ने के लिए अभी हमारी website को subscribe करे.

Sign up email newsletter to receive email updates in your email inbox!

Latest
Previous
Next Post
No comments:
Write comment